थाइरोइड में खानपान और परहेज : क्या खाना चाहिए और क्या नहीं

थाइरोइड में क्या खाना चाहिए इन हिंदी : थाइरोइड हमारी गर्दन में तितली के आकार की एक ग्रन्थि होती हैं जो कई तरह के ऐसे हारमोंस का स्त्राव करते है जो मेटाबोलिज्म, ह्रदय गति, नींद, महिलाओ में पीरियड्स से लेकर कई और शरीर के कामो को प्रभावित करते हैं। जब थाइरोइड में कोई कमी जाती है तो उसके कई प्रभाव दिखाई देने लगते हैं। थाइरोइड की बीमारी होने पर मरीज को ना सिर्फ सही इलाज की जरुरत होती हैं बल्कि उसके साथ में एक सही डाइट का भी ख्याल रखना पड़ता हैं तभी वो जल्दी से इससे छुटकारा पा सकेगा। चलिए आज जानते हैं थाइरोइड में क्या खाए और किन चीजो से परहेज़ करे।

Thyroid के सही से काम न कर पाने से वजन बढ़ना और डिप्रेशन जैसे मानसिक समस्या भी आ जाती हैं। थाइरोइड के इलाज में दवाइयों का असर एक सीमा तक ही होता हैं। हम क्या खाते है और क्या नहीं वो इस समस्या को दूर करने में सबसे जरुरी हैं। इस ग्रन्थि के सुचारू ढंग से काम करने में कुछ ऐसे खाने है जो काफी मदद कर सकते हैं। खाने के साथ में रोगी को नियमित एक्सरसाइज और योगा भी करना चाहिए।

थाइरोइड में क्या खाए और क्या नहीं खाना चाहिए

थाइरोइड में क्या खाए और क्या नहीं खाना चाहिए

Thyroid Food Diet in Hindi

थाइरोइड की बीमारी 2 प्रकार की होती हैं। Hypothyroid और Hyperthyroidism. जब थाइरोइड कम मात्रा में हारमोंस बनाना शुरू कर दे तो उस अवस्था को Hypothyroid कहते हैं। जिसके वजह से बॉडी भी धीमा काम करना शुरू कर देती हैं। जिससे मोटापा, तनाव, बाल झड़ना, थकावट जैसे कई समस्या भी आने लगती हैं। चलिए जानते हैं Hypothyroid में क्या डाइट लेनी चाहिए।

Hypothyroid में क्या खाना चाहिए

1. डॉक्टर का कहना हैं थाइरोइड हारमोंस बनाने के लिए आयोडीन जरुरी होता हैं। Hypothyroid की बीमारी होने का एक कारण आयोडीन की कमी होना होता हैं। हमारा शरीर प्राकर्तिक रूप से आयोडीन नहीं बना सकता। ऐसे में हमें ऐसे खाने डाइट में शामिल करने चाहिए जिनमे आयोडीन काफी हो। आयोडीन की कमी पूरी करने के लिए आयोडीन युक्त नमक खाने में लेना चाहिए। पर ध्यान रहे एक लिमिट में ही आयोडीन खानों का सेवन करे।

2. हाइपोथायरायडिज्म के उपचार के साथ में खाने में मरीज़ को मछली खानी चाहिए। मछली में ओमेगा 3 फैटी एसिड और सेलेनियम होता हैं ओमेगा 3 ldl कोलेस्ट्रोल को कम करता हैं और सेलेनियम हारमोंस बनाने की प्रक्रिया को तेज़ करता हैं। एक नियमित मात्रा में मच्छली खाने से थाइरोइड में बहुत फायदा होता हैं।

3. थाइरोइड में कम फैट वाला दूध और पनीर लेना चाहिए। इनमे आयोडीन और सेलेनियम होनो होते हैं हाइपोथायरायडिज्म में होने वाली हारमोंस की कमी को पूरा करने में सहायक होते हैं। इनमे एमिनो एसिड्स भी होते हैं जिससे थाइरोइड के लक्षण तनाव और थकावट भी दूर होती हैं। दिन में एक गिलास दूध और 50-100 ग्राम तक पनीर का सेवन करे।

4. Hypothyroid में अंडा खाना भी अच्छा होता हैं। अंडे में आयोडीन काफी होता हैं जो इस बीमारी से उभरने में हेल्प करता हैं। दिन में 2 अंडे तक खाए। अंडे से मिलने वाले विटामिन्स और दुसरे पौषक तत्वों के कई और फायदे होते हैं।

5. थाइरोइड के मरीज़ का खाना जैतून के तेल में बनाना चाहिए। जैतून के तेल में हेअलथी फैट होता हैं जो हारमोंस के निर्माण में मदद करते हैं। जैतून तेल वजन कम करने और दिल के लिए भी फायदेमंद होता हैं।

Hypothyroid में खानपान परहेज क्या करे

  • ज्यादा मीठे खानों से परहेज़ करे। ज्यादा शुगर वाले खाने इन्सुलिन को बढ़ा देते हैं जो Hypothyroid  की स्थिति को और ख़राब कर देते हैं।
  • कच्ची या अधपकी हरी सब्जिया मत खाए।
  • समोसे, फ्रेंच फ्राइज जैसे जंक फ़ूड और ज्यादा तले हुए खाने नहीं खाने चाहिए। इनमे सोडियम तो काफी होता हैं पर आयोडीन और पौषक तत्व नहीं होते। जो कोलेस्ट्रोल लेवल को बढाकर नुकसान पहुचाते हैं।
  • हाल ही में किये गए स्टडी से पता चला हैं ज्यादा ग्रीन टी पीना थाइरोइड के लिए हानिकारक होता हैं। इसलिए ग्रीन टी का सेवन कम से कम करे।

जाने : थायराइड का इलाज के घरेलू नुस्खे

Hyperthyroidism में क्या खाना चाहिए

Hyperthyroidism में थाइरोइड overactive हो जाती हैं जिससे हारमोंस ज्यादा मात्रा में बनने लगते हैं और शरीर के कई काम जरुरत से ज्यादा तेज़ी से होने लगते हैं। इसमें अचानक वजन गिरना, ज्यादा पसीना आना, नींद कम आना जैसे समस्या आने लग जाती हैं। Hyperthyroidism में क्या सही डाइट हैं निचे जानते हैं।

  • Hyperthyroidism में कच्चे फल और सब्जिया खाना काफी फायदेमंद होता हैं। ऐसे चीजे हारमोंस के निर्माण में रुकावट पैदा करते हैं जो हाइपरथाइरॉयडिज़्म से छुटकारा पाने के लिए जरुरी होता हैं। ब्रोक्कोली, मूली, गाजर, टमाटर, कीवी, अंगूर, संतरे खाना शुरू करे।
  • ग्रीन टी पीने से ज्यादा बनने वाले थाइरोइड हार्मोन्स को रोका जा सकता हैं। जो हाइपरथाइरॉयडिज़्म के इलाज में काम करता हैं। ग्रीन टी में फ्लोराइड होता हैं जो इस बीमारी के उपचार में मदद करता हैं। दिन में २ बार ग्रीन टी का सेवन करे।
  •  प्रोटीन का सेवन ज्यादा करे। प्रोटीन हार्मोन्स को टिश्यू तक पहुंचाता हैं जिसे थाइरोइड हार्मोन्स सही से काम करते हैं। दूध, अंडा, मच्छली, सोयाबीन जैसे प्रोटीन युक्त खाने Thyroid  Diet में शामिल करे।
  • ब्राउन राइस मे हाई फाइबर, विटामिन्स और कई ऐसे पौषक तत्व होते हैं जो हाइपरथाइरॉयडिज़्म में लाभदायक होते हैं। दिन में आधे से एक कप तक भूरे चावल खाने चाहिए।

Hyperthyroidism Diet में क्या नहीं खाना चाहिए

  • शराब और वाष्पित पेय पदार्थो के सेवन से बचे।
  • जिंक, सेलेनियम और ज्यादा आयोडीन युक्त खाने नहीं खाने चाहिए।
  • आइसक्रीम, दही और बटर खाने में कम ले।
  • डिब्बाबंद खाने जिनमे अप्र्कार्तिक मीठापन या रंग डाला हो।
  • ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर के तुरंत बाद पानी ना पिए।

दोस्तों आज की ये पोस्ट थाइरोइड में क्या खाना चाहिए क्या नहीं : Thyroid Diet in Hindi? कैसे लगी कमेंट्स में बताए।

One Response

  1. Yashwant Misal

Leave a Reply

error: Content is protected !!