हेमपुष्पा के फायदे नुकसान, लेने का तरीका : Hempushpa in Hindi

हेमपुष्पा एक आयुर्वेदिक दवा हैं जो महिलाओ और लडकियों की हेल्थ समस्याओ के इलाज के लिए ली जाती हैं। हेमपुष्पा पीने की सिरप और टेबलेट दोनों रूप में उपलब्ध हैं। खून शुद्धिकरण, हारमोंस असंतुलन, भूख और पीरियड्स से जुडी समस्याओ से छुटकारा पाने में ये मेडिसिन काफी असरदार होती हैं। आज हम जानेंगे हेमपुष्पा के फायदे, कीमत, साइड इफ़ेक्ट और लेने की खुराक

हेमपुष्पा सिरप को उन महिलाओ के लिए भी अच्छा माना जाता हैं जो काफी दुबली पतली हैं या उनमे खून की कमी हैं। ये उनके शरीर में जरुरी पौषक तत्वों की कमी दूर करने उनके जेनरल हेल्थ में सुधार करने वजन बढाता हैं। चलिए कुछ हेमपुष्पा के कुछ और फायदे विस्तार से जानते हैं।

हेमपुष्पा के फायदे नुकसान : Hempushpa in Hindi

हेमपुष्पा के बनने में लगने वाली सामग्री

  • अश्वगंधा
  • लोध्र
  • मुसली
  • Shankhapushpi
  • पुनर्नवा
  • गोखरू
  • Nagarmotha
  • शतावरी
  • Shankhpushpi
  • Gambhari
  • Punarnawa

जाने : जल्दी प्रेग्नेंट होने के उपाय

हेमपुष्पा के फायदे : Hempushpa Benefits in Hindi

1. हारमोंस असंतुलन का इलाज

हर महिला को जीवन में कभी न कभी हारमोंस में असंतुलन की समस्या का सामना करना ही पड़ता हैं। जिसके वजह से अनचाहे बाल आना, पिम्पल,  तनाव रहना, वजन बढ़ना, पाचन विकार और नींद ना आने जैसे स्वास्थ्य संबधित प्रॉब्लम आने लगती हैं। हेमपुष्पा पीने की दवा से हारमोंस में उचित संतुलन बनता हैं और इन सभी समस्याओ को ठीक करने में फायदा मिलता हैं।

2. पेशाब की समस्याओ से छुटकारा

जिन स्त्रियों को बार बार पेशाब आना, पेशाब में रुकावट और जलन रहना या गहरे रंग का यूरिन आने जैसे समस्याए रहती हैं उनके लिए हेमपुष्पा एक असरदार आयुर्वेदिक घरेलू नुस्खा हैं। इस दवा के सेवन से किडनिया (गुर्दे) स्वस्थ होते हैं जिससे यूरिन की बीमारियों से बचाव रहता हैं।

3. वजन बढ़ना

कुछ लडकियों का वजन बहुत कम होता हैं। लम्बाई के अनुसार जितना वजह होना चाहिए उससे काफी कम होता हैं। डाइट में बदलाव और ढेरो घरेलू उपाय से भी weight gain नहीं हो पाता। ऐसे में उन महिलाओं के लिए हेमपुष्पा का सेवन एकवरदान साबित हो सकता हैं। नियमित रूप से हेमपुष्पा टॉनिक पीने से प्राकर्तिक रूप से बिना किसी साइड इफ़ेक्ट के वजन बढ़ने लगता हैं।

 4. नियमित पीरियड्स

आज के समय लेडीज में अनियमित माहवारी की समस्या काफी आम हो गयी हैं। डॉक्टर ऐसे औरतो को हेमपुष्पा लेने की सलाह देते हैं। इससे ना सिर्फ पीरियड समय पर आने लगते हैं बल्कि माहवारी के दौरान ज्यादा दर्द, हैवी ब्लीडिंग जैसे पीरियड्स से जुड़े प्रॉब्लम ठीक होने में भी मदद मिलती हैं।

5. प्रेगनेंसी में फायदे

महिलाओ के लिए प्रेगनेंसी का समय काफी कठिन रहता हैं। प्रेग्नेंट होने पर खाने पीने का काफी ध्यान रखना होता हैं। इस दौरान किसी भी दवाई को लेने से पहले डॉक्टर की सलाह लेनी जरुरी होती हैं। हेमपुष्पा एक ऐसी आयुवेदिक मेडिसिन हैं जिसे प्रेगनेंसी में लेना काफी फायदेमंद हो सकता हैं। गर्भवती महिलाओ को कब्ज़, कमर दर्द, भूख की कमी, चिडचिडा स्वभाव और शारीरिक कमजोरी रहना काफी कॉमन रहता हैं। हेमपुष्पा लेने से इन सभी में  काफी फायदा मिलता हैं।

6. गैस में राहत

कभी कभार पेट में गैस बनना आम हैं पर कुछ औरतो को नियमित गैस बनती हैं जो काफी असहज होती हैं और लम्बे समय से गैस बनने से कई और नुकसान भी हो सकते हैं। ये माना जाता हैं की हेमपुष्पा लेने से पेट की गैस से छुटकारा पाने में मदद मिलती हैं। गैस के अलावा, पेट में एसिडिटी और आंतो से जुडी बीमारियों में भी इस टॉनिक के सेवन से फायदा पहुचता हैं।

 7. रजोनिवृत्ति सिंड्रोम

उम्र बढ़ने के साथ हर महिला की जिंदगी में एक समय ऐसा आता हैं जब उसका शरीर अंडे बनाना बंद कर देता हैं। इसके साथ में शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन का उत्पादन भी कम होने लगता हैं। जिसके वजह से शरीर और कमर में दर्द रहने लगता हैं। उन महिलाओ के लिए हेमपुष्पा पीना फायदेमंद रहता हैं।

हेमपुष्पा के नुकसान : Side Effect of Hempushpa in Hindi

Hempushpa एक आयुर्वेदिक दवाई हैं और इसके साइड इफ़ेक्ट ना के बराबर होते हैं। पर कुछ मामलो में देखा गया हैं लम्बे समय तक नियमित हेमपुष्पा के सेवन से तेज़ी से वजन में बढ़ोतरी हुई हैं। ये खासकर उन महिलाओ के साथ हो सकता हैं जिन्हें पहले से ज्यादा वजन की शिकायत रहती हैं। जो लडकिय नियमित इस आयुर्वेदिक रेमेडी को लेती हैं उन्हें इस साइड इफ़ेक्ट से बचने के लिए एक्सरसाइज और योगा नियमित करना चाहिए। साइकिल चलाना, रस्सी कूदना, कुछ देर तेज़ पैदल चलना और जोगिंग जैसे हलकी फुलकी एक्सरसाइज करते रहे।

 

Hempushpa खुराक और लेने का समय

कोई भी दवा कितनी असरदार होगी वो दवाई के समय पर और सही खुराक में लेने पर निर्भर करता हैं। हेमपुष्पा पीने की सिरप की एक दिन की कुल खुराक 14 ml होती हैं। जिसे आप दिन में  2 बार 7-7 ml करके ले।

हेमपुष्पा आपको जल्दी सुबह और शाम को सोने से पहले लेनी होती हैं। सुबह के समय खाली पेट इस दवा का सेवन ना करे, कुछ खाने के बाद ही इसे ले। प्रेग्नेंट महिला हेमपुष्पा लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरुर ले।

हेमपुष्पा का निर्माण Rajvaidya Sheetal Prasad & Sons द्वारा किया जाता हैं। हेमपुष्पा 175 ml सिरप का Price 175 रूपए हैं।

इलाज उपाय का ये लेख हेमपुष्पा के फायदे और नुकसान : Hempushpa in Hindi? अगर आपको अच्छा लगे तो इसे अधिक से अधिक शेयर जरुर करे। अगर आपने इस दवा के सेवन किया हैं या कर रहे हैं तो अपने अनुभव निचे कमेंट्स में लिखे।

Leave a Reply

error: Content is protected !!