बवासीर का इलाज की बाबा रामदेव रामबाण दवाई और योगा

बवासीर का इलाज बाबा रामदेव: अनुचित खानपान और अस्वस्थ दिनचर्या के कारन बवासीर होना एक बड़ी समस्या बनती जा रही हैं। बवासीर को इंग्लिश में पाइल्स (piles) नाम से जाना जाता हैं। गुदा के अंदर या बाहरी तरफ मांस का इकठ्ठा हो जाना जो दिखने में मस्से के जैसा दिखाई देता हैं उसे ही बवासिर कहते हैं। इस बीमारी में रोगी को तेज़ दर्द के साथ खून आने की शिकायत भी रहती हैं। पाइल्स के इलाज जानने से पहले जरुरी है इसके कारणों का पता होना। जिसमे लम्बे समय तक कब्ज़ बने रहना एक प्रमुख कारण  होता हैं। इसके अलावा एक जगह ज्यादा बैठा रहना और ताली हुए मसालेदार फ़ास्ट फ़ूड खाने से भी इसके होने की सम्भावना बढ़ जाती हैं।

हमारे कई पाठको का ये सवाल आता रहता है की बवासीर के उपचार के लिए बाबा रामदेव की आयुर्वेदिक दवा कौन सी है? आज हम उन्ही ऐसे कुछ सवालो के जवाब इस लेख में देंगे। आगे हम बतायेंगे बाबा रामदेव की आयुर्वेदिक मेडिसिन और योग से बवासीर इलाज कैसे कर सकते हैं।

बाबा रामदेव की दवा और योग से बवासीर का इलाज

बवासीर कितने तरह का होता हैं?

बवासीर 2 टाइप की होती हैं पहली भीतरी यानी internal piles और दूसरी बाहरी यानी external piles.भीतरी बवसीर में गुद द्वार के अंदर 2-4 cm अंदर तक मस्से हो जाते हैं जो दिखाई नहीं देते पर रोगी उन्हें महसूस कर सकता हैं। इसमें मॉल के साथ खून आना एक आम लक्षण होता हैं और उसके साथ में खुजली और दर्द भी रह सकता हैं। बाहरी बवसीर गुदा क्व बाहर के आस पास के हिस्से में होती हैं। जिससे हम देख और महसूस दोनों कर सकते हैं। इसमें मांस और खून के थक्के एक जगह जैम जाते हैं जो मस्से के रूप में नज़र आते हैं। ऐसे अवस्था में पीड़ित बैठने तक के लिए मजबूर हो जाता हैं। हल्का से भी स्पर्श काफी पीड़ा पहुंचाता हैं। कपड़ो की छुवन इस दर्द को और ज्यादा बढ़ा देती हैं। इसमें पीड़ित महिला या पुरुष काफी असहज महसूस करता हैं।

बवासीर का इलाज की बाबा रामदेव दवाई योगा

बवासीर का इलाज के लिए बाबा रामदेव योगासन

बवासीर की बीमारी को जड़ से ख़त्म करने में योगा काफी फायदेमंद होता हैं। योग करने से ना सिर्फ आप शारीरिक रूप से मजबूत होते हैं बल्कि उसके साथ में मानसिक रूप से भी फायदा मिलता हैं। कुछ खिचाव भरी एक्सरसाइज और योगा से रक्त कैशिकाओ में राहत मिलती है और उसके साथ में सूजन कम करने में भी मदद मिलती हैं। नियमित रूप से कुछ योगा करने से बवासीर के इलाज करने में काफी मदद मिलती हैं। और जब योगा का नाम आये तो बाबा रामदेव को कैसे भूल सकते हैं। बवासीर में बाबा रामदेव के कपालभाती और अश्विनी मुद्रा योगासन करना शुरू करे। ये दोनों योगा के विडियो यूट्यूब पे आपको आसानी से मिल जायगी।

बाबा रामदेव आयुर्वेदिक मेडिसिन से बवासीर का इलाज

बवासीर ट्रीटमेंट के लिए एक जो तरीका जिसके बारे में डॉक्टर ज्यादा कहते हैं वो है ऑपरेशन / सर्जरी। जिसमे उन सूजी हुई मांसपेशियों जो मस्से बन जाती हैं उन्हें सर्जरी से निकाल दिया जाता हैं। दूसरा तरीका है आयुर्वेदिक मेडिसिन, जिसके ना तो उतने साइड इफेक्ट्स होते हैं और खर्चा भी काफी कम आता हैं। बवासीर का इलाज दवा से करने के लिए बाबा रामदेव की एक दवा बाज़ार में उपलब्ध है जिसका नाम हैं दिव्य अर्शकल्प वटी। ये आयुर्वेदिक दवा आपको किसी भी पंसारी या पतंजलि शॉप से आसानी से मिल जायगी। किसी अच्छे वैद या आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह से इस दवा का सेवन करने से कुछ ही दिनों में बवासीर से छुटकारा मिल जाता हैं। इस दवाई को आप निचे दिए गए लिंक से ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं।

BUY ARSHKALP VATI

दिव्य अर्शकल्प वटी में हरतिकी, कपूर, मकोय, बकायन और खून खराबा जैस हर्बल घटक मौजूद होते हैं। इसलिए जो लोग सर्जरी से बचना चाहते है डॉक्टर की देख रेख में इस दवा का सेवन जरुर करे।

 

बवासीर के इलाज के घरेलु नुस्खे

  • बर्फ के एक छोटे टुकड़े को कपडे में लपेटे और उससे बवासीर के मस्से वाली जगह की सिकाई 5 से 10 मिनट तक करे। ये घरेलु उपाय दिन में 3-4 बार दोहराए।
  • बवासीर में सूजन आने के साथ खून भी आने लगता हैं। खून रोकने में जैतून का तेल काफी फायदेमंद होता हैं। रोजाना दिन में एक बार एक चमच्च जैतून का तेल का सेवन करे, इससे आपको काफी लाभ होगा।
  • पाइल्स होने पर खुजली होना एक आम समस्या होती हैं जिससे पीड़ित काफी असहज महसूस करता हैं। बवासीर में खुजली गुदा के अंदर और बाहर दोनों तरफ हो सकती हैं। खुजली ठीक करने में सेब का सिरका एक रामबाण उपाय होता हैं। खुजली होने पर एक रुई को सेब के सिरके में डुबाकर उसे खुजली वाली जगह पर लगाये। इससे आपको थोड़े सनसनाहट जरुर होगी पर घबराए नहीं , कुछ ही देर में वो चली जायगी।
  • अगर आपको खुनी बवासीर है तो तिल का घरेलू नुस्खा आपको जरुर करना चाहिए। 10 ग्राम तिलों को सही से धोकर उसे ताज़ा मक्खन के साथ ले।
  • निम्बू में कई ऐसे फायदेमंद पौषक तत्व मौजूद होते हैं जो पाइल्स ट्रीटमेंट में सहायक होते हैं। निम्बू का रस निकाले और उसमे रुई डालकर उसे पूरी तरह भिगोकर बवासीर के मस्सो पर लगाए, इससे भी आपको जलन होगी पर ये कुछ समय के लिए ही हैं। ये होम रेमेडी बवासीर के उपचार के लिए काफी इस्तेमाल की जाती हैं।
  • बवासिर में पानी पीना काफी जरुरी होता हैं। जितना अधिक पानी पियेंगे उतना ही अंदर की सफाई होगी और कब्ज़ से भी बचाव होगा। जो पाइल्स होने का सबसे बड़ा कारन होता हैं। रोजाना कम से कम 8-10 गिलास पानी जरुर पिए।

उपर बताये गए बाबा रामदेव के दवा और मेडिसिन से बवासीर का इलाज?  के बारे में अपनी कीमती राय और सवाल नीचे लिखे.

65 Comments

  1. sonu gupta
    • Dr .Surya vaishnav
  2. kunwar indrajeet singh
      • Ashish
  3. Rakesh Kumar
  4. Bhavana
  5. Kapil
  6. nand kishor
  7. raja dewangan
      • raja dewangan
  8. sahikh
  9. Diwakar
  10. niranjan
  11. Rabbu hussain
  12. rohitverma
  13. sonu
  14. Ranjit Singh
  15. arvind
  16. vikas
  17. SHUBHAM KUMAR
  18. Akhilesh
  19. vikas
  20. bhawna
  21. A K Sharma
  22. Nainshi singh
  23. aishwry verma
  24. Sukhpal
  25. Ajaykumar
  26. suroj
  27. raj sharma
  28. sita
  29. susheel kumar
  30. MANOJ
  31. ajay
  32. Meraz
  33. ravi
  34. kamlesh
  35. kamlesh
  36. deepak kr.
  37. rahul
  38. Anil Kumar
  39. saabi
  40. Butan kushwaha
  41. मुकेश कुमार
  42. Amit kumar gupta
  43. Amit kumar gupta
  44. Kawal jeet Singh

Leave a Reply

error: Content is protected !!