गले में टोन्सिल का घरेलू इलाज व दर्द के देसी नुस्खे इन हिंदी

टोन्सिल क्या है टोन्सिल का घरेलू उपचार  – टोन्सिल (tonsil) एक बहुत आम समस्या है। मौसम बदलने पर, खासतौर पर सर्दियों में टॉन्सिल से पीड़ित रोगी की तकलीफें ज्यादा हो जाती हैं। इसकी वजह वायरल या बैक्टीरियल इन्फेक्शन हैं जिनसे गले में tonsil वाले भाग में दर्द व सूजन की दिक्कत होती है। गले के अंदर दोनों तरफ मांस की एक गाठ होती है। जिसे टोन्सिल कहते है यह हमारी जीभ के पिछले हिस्से से जुड़ा हुआ होता है। यह बाहर से आने वाले कीटाणु को गले मे जाने से रोकता है। सामान्य अवस्था मे टोन्सिल से किसी भी तरह की परेशानी नही होती परन्तु इसमें संक्रमण हो जाये तो इसमें सुजन आकर बहुत दर्द होता है। अगर आप भी इस समस्या से पीड़ित है तो आज हम आपको टोन्सिल के लक्षण, कारण, इलाज दवा और घरेलू नुस्खे के बारे मे बताएँगे।

टोन्सिल का इलाज लक्षण उपाय Tonsils ka Gharelu Upchar

गले में इन्फेक्शन (टोन्सिल) होने के कारण। Tonsils ke karan

बच्चों में यह बीमारी अधिक होती है एवं शरीर का ताप 104 डिग्री तक चला जाता है। गले में पीड़ा के साथ-साथ बुखार (fever) के वजह से  सिर में तेज दर्द होने के साथ, खांसी और बेचैनी हो जाती है । उचित चिकित्सा के अभाव में बीमारी बढ़ कर कठिन हो जाती है। सांसों से बदबू आती है । टोन्सिल होने के और भी बहुत कारण है जेसे:-

  1. शरीर मे खून की मात्रा अधिक होने के कारण
  2. दूषित दूध व पीने के कारण भी टोन्सिल इन्फेक्शन हो सकता है.
  3. मैदा, चावल, चीनी आदि चीजों का अधिक उपयोग करने के कारण
  4. सर्दी जुखाम होने के कारण.
  5. ज्यादा  ठंडी चीजे खाना भी एक वजह बन सकता है.
  6. किसी वायरस या बैक्टीरिया का गले के सम्पर्क मे आने के कारण

 

टोन्सिल के लक्षण । symptoms of tonsils

  • गले मे सुजन आ जाना, और दर्द होना ।
  • मुह से बदबू आना
  • गर्दन के दोनों तरफ लाशिका ग्रंथि का उभर जाना।
  • बेचनी, सुस्ती आदि लक्षणों का दिखाई देना।
  • खाना खाते समय तकलीफ होना।

 

गले में टॉन्सिल्स का घरेलू नुस्खो से उपचार

Gale me Tonsils ka Gharelu Desi ilaj in Hindi

अगर आपको भी यह समस्या अक्सर परेशान करती है। तो इसमें आराम के लिए अपने घर में ही ये उपाय आजमा सकते हैं।

  1. हल्दी, सेंधा नमक, बायवडिंग (थोड़ा कुटा हुआ) तीनों चीजे प्रत्येक दो – दो ग्राम (आधा – आधा चम्मच) लें और 500 ग्राम पानी में अची तरह मिला ले। फिर कपडे से छानकर सुहाते गर्म पानी में नित्य दो बार गरारे करें, रात में सोते समय अवश्य करना है। एक सप्ताह में यह रोग पूरी तरह से ठीक हो जाता है। ये एक टॉन्सिल का सरल उपचार है.
  2. अंजीर को पानी मे उबालकर इसका पेस्ट तैयार कर ले फिर उस पेस्ट को  गले पर लगाये इससे टोन्सिल से छुटकारा मिल जायगा।
  3. रात को सोते समय एक कप गुनगुने दूध मे एक चम्मच हल्दी डालकर पीना भी टॉन्सिल्स का एक उपयोगी घरेलू उपचार है।
  4. टॉन्सिल की सूजन में केवल गर्म पानी 200 ग्राम में आधा चम्मच नमक डाले। इस नमक के पानी से प्रतिदिन २-3 बार गरारे करे ।
  5. एक गिलास गर्म पानी ले उसमे एक नींबू को काटकर उसके आधे भाग से रस को निकलकर गर्म पानी मे निचोड़ दे फिर उस मे दो तीन चम्मच शहद को मिला दे तथा इस घोल का रोजाना एक हफ्ते तक सेवन करना टोन्सिल का इलाज उपचार   में फायदेमंद होता है।
  6. एक सूती कपड़े में बर्फ के कुछ टुकड़ें भरें और गले में टॉन्सिल वाले भाग पर सेंके। दिन में पांच से छह बार बर्फ की सेंक दें।
  7. तुलसी के 7 से 8 पत्तो को तोडकर पानी मे डाल ले फिर इस पानी को उबालकर रख ले तथा इस पानी से गरारे करे। ये एक कारगार Tonsils ka Gharelu Upchar ilaj है.

 

गले के दर्द इन्फेक्शन (टोन्सिल) से बचाव के उपाय हिंदी में

  • मसालेदार व तली हुई चीजे खाने से बचे।
  • ठंडी चीज़े न खाए।
  • गले की गुनगुने पानी से सफाई करे।
  • अगर आपको पहले से ही टोन्सिल की समस्या है तो धुम्रपान न करे।

बाबा रामदेव के घरेलू नुस्खे और देसी उपाय

आयुर्वेदिक उपचार की पतंजलि दवाइयाँ

हमारी इस पोस्ट गले में टोन्सिल (दर्द इन्फेक्शन ) का घरेलू इलाज के देसी उपाय इन हिंदी? के बारे में अपने राय जरुर बताए.

One Response

  1. दीवान नौटियाल

Leave a Reply

error: Content is protected !!