थायराइड के घरेलू उपचार के आयुर्वेदिक नुस्खे और उपाय इन हिंदी

थायराइड के घरेलू उपचार इन हिंदी: थायराइड (Thyroid) हमारे गले में निचे की तरफ पायी जानी वाली एक ग्लैंड है जो एक प्रकार के हारमोंस छोडती है जिसे थाय्रोक्सिन (thyroxin) हारमोंस कहते है. इसका आकार तितलीनुमा होता होता है जिससे पाचन क्रिया तेज़ होती है और खाना अच्छे से हजम करने में मदद मिलती है. उसके साथ हमारी हृदय गति (heart rate) को भी नियंतरण में रहती है. थायरोइड में हारमोंस का बैलेंस होना बहुत जरुरी है. जब ये बिगड़ता है तो या तो हमारी metobolism (पाचन क्रिया) बढ़ जाता है या फिर बहुत कम हो जाता है. आज इस पोस्ट में हम थायराइड के आयुर्वेदिक इलाज : Thyroid ka gharelu ilaj in Hindi जानेंगे.

 

थायरोइड (Thayoid) बीमारी 2 प्रकार की होती है. Hypothyroid और Hyperthroid. जब थायरोइड ग्रंथि जरुरत से ज्यादा हारमोंस पैदा लगती है जिस हमारी पाचन क्रिया बढ़ जाती हैजिससे हमारा वजन तेज़ी से कम होने  लगता है इसे Hyperthyroid कहते है. और कई बार ऐसे होना लगता है जब Thyroid हार्मोन कम छोडती है जिससे पाचन क्रिया धीमी हो जाती है इसे Hypothyroid कहते है. इसमें एकदम से  weight बढ़ने लगता है. अगर लम्बे समय तक ये रहता है तो ये हमारे लिए काफी घातक हो सकता है. यह तक की कोमा में जाने तक का खतरा रहता है हालांकि ये बहुत कम होता है फिर भी समय रहते इसका इलाज करना बहुत जरुरी है.

ये भी पढ़े: टोन्सिल का इलाज के घरेलू उपाय

Thyroid ka gharelu ilaj ke nuskhe aur upay

थायराइड रोग के कारण – Thyroid kaise hota hai uske karan

  1. किसी दूसरी दवा लेने से हुए साइड इफ़ेक्ट के कारण
  2. ज्यादा तनाव में रहना से भी थायरोइड की समस्या आ सकती है.
  3. शरीर में आयोडीन की कमी हो जाना भी एक वजह बन जाता है.
  4. परिवार में किसी और को अगर ये समस्या रहती है तो जन्मजात बच्चो को थायराइड की समस्या हो सकती है
  5. थायराइड ग्रंथि का बढ़ जाने से हारमोंस कम बनने लगते है जिससे ये हो सकती है.
  6. महिलाओ में गर्भधारण के समय हारमोंस में काफी बदलाव होते है. उससे भी उनको ये बीमारी हो सकती है.

 

थायराइड होने के लक्षण – Thyroid ke lakshan hindi me

  • एकदम से वजन का बढ़ जाना.
  • मांशपेशियो और जोड़ो में दर्द होना
  • पसीना आना बंद हो जाना.
  • भूख कम लगना
  • लम्बे समय तक कब्ज़ बना रहना
  • हाथ पैर और मुह पर सूजन आ जाना.
  • त्वचा में सूखापन होना
  • कमजोरी महसूस होना.

 

थायराइड के घरेलू उपचार (इलाज) के उपाय और नुस्खे

Thyroid ka gharelu ilaj ke nuskhe in Hindi

 

1. नारियल का तेल (Coconut Oil se Thyroid ka ilaj)

नारियल के तेल में फैटी एसिड होते है जो थाइरोइड को सही तरह से काम करने में मदद करता है. और हमारे metabolism को बढ़ने के साथ उर्जा भी बढाता है.

इस थायराइड का इलाज के नुस्खे के लिए दूध में 2 चमच्च नारियल तेल के मिलकर सुबह नाश्ते के समय पिए. इसके साथ अपने कहने में भी नारियल तेल का ही इस्तेमाल करे.

 

2. मछली का तेल (Fish Oil for Thyroid treatment in Hindi)

मछली का तेल से हारमोंस (harmons) लेने की प्रक्रिया तेज़ हो जाती है और ये हमारे थायराइड को स्वस्थ बनाये रखता है इसके साथ इसमें पाए जाने वाले ओमेगा 3 फैटी एसिड से सूजन भी कम होगी. रोजाना 3 ग्राम तक मछली का तेल अपने खाने में शामिल करे.

 

3. सेब का सिरका (Thyroid ka gharelu upchar Seb ke sirke se)

थायराइड का घरेलू उपचार के लिए सेब का सिरका एक उतम उपाय है. ये alkaline acid और हारमोंस का उचित स्तर बनाये रखने में मदद करता है. इसके साथ ही ये उच्च रक्तचाप, डायबिटीज और उच्च कोलेस्ट्रॉल में भी सहायक है.

एक गिलास पानी में 2 चमच्च सेब का सिरका और थोडा शहद मिला कर प्रतिदिन सेवन करे.

 

4. अदरक चाय (Thyroid ko khatam ka upay)

अदरक में जिंक, पोटैशियम और मैग्नीशियम काफी मात्रा में होता है जो हमारे थायराइड की काम करने की ताक़त और बढ़ा देता है और सूजन भी कम करने में मददगार है.

इस घरेलू नुस्खे के लिए हमे अदरक की हर्बल चाय बनानी है. इसके लिए उबलते पानी में 2-3 अदरक के छोटे टुकड़े डाले, थोडा ठंडा होने पर  उसमे थोडा शहद भी मिला दे. इस चाय का दिन में 2 से 3 बार सेवन करे.

 

5. लौकी का रस 

थायरोड का घरेलू इलाज  के लिए लौकी का जूस एक बेहतरीन नुस्खा है. सुबह खाली पेट लौकी का जूस बनके उसका सेवन करे, 2-3 तुलसी के पत्ते भी जूस निकालते समय डाल ले तो और बेहतर.

 

थायराइड का आयुर्वेदिक उपचार (बाबा रामदेव दवा) – Thyroid ka ayurvedic ilaj

थायरोइड का आयुर्वेदिक इलाज किया जाना संभव है. अश्वगंधा (Ashwagandha) एक हर्बल औषधि है जो थायराइड रोग के उपचार में फायदेमंद है. ये सूजन कम करने के साथ रोग प्रतिरोधक अक्षमता भी बढाता है. इसके अलावा आप बाबा रामदेव की आयुर्वेदिक दवा divya kanchanar guggulu लेकर भी इस समस्या से छुटकारा पा सकते है हम ये सुझाव देंगे की ये दावा लेने से पहले डॉक्टर से सलाह जरुर ले.

 

थाइरोइड के इलाज के लिए योग व्यायाम – Thyroid treatment by Yoga

थायराइड के रोग से पीड़ित के लिए योग एक अच्छा विकल्प है. प्राणायाम (Pranayama) योग आसन इसमें बहुत प्रभावी होता है. ये योग गले पर केन्द्रित होता है. और ये योग करने से हारमोंस का संतुलन बना रहता है. और thyroid की समस्या से काफी हद तक राहत मिलती है. इसक साथ साथ हम सर्वंगासना, सूर्य नमस्कार भी करे तो प्रभाव और ज्यादा होगा.

 

थायराइड में परहेज क्या खाए क्या ना खाए –  Thyroid Diet in Hindi

  1. ज्यादा तेल, मिर्च, मसाले वाला खाना ना खाए.
  2. चिकन, मटन और दूसरी नॉन वेग खाना बंद कर दे.
  3. पैकिंग वाला चीजे जैसे की बिस्कुट, मिठाई , नमकीन का सेवन मत करे.
  4. किसी भी तरह की शराब पीना बंद कर दे.
  5. पानी ज्यादा से ज्यादा पिए, दिन में 3-4 लिटर पानी जरुर पीना चाहिए.
  6. आयोडीन युक्त नमक का ही खाने में उपयोग करे.
  7. हल्का खाना खाए जो आसानी से हजम हो जाए.
  8. हरी सब्जियों का सेवन बढ़ाये. इनमे पाए जाने वाला विटामिन a थायराइड के लिए फायदेमंद है

दोस्तों अपने कीमती राय और सवाल हमारे इस लेख थायराइड का आयुर्वेदिक घरेलू उपचार के उपाय: Thyroid ka gharelu ilaj ke in Hindi? के बारे में जरुर साँझा करे.

Leave a Reply

error: Content is protected !!