किशमिश के फायदे: Kishmish खाने का सही तरीका इन हिंदी

किशमिश के फायदे इन हिंदी: सूखे फलो (Dry Fruits) में किशमिश को लाभदायक गुणों से भरपूर मेवे के रूप में जाना जाता है. किसमिस सुनहरा, काले या हरे रंग की होती है. स्वाद में ये मीठी होती है किशमिश को इंग्लिश में Raisins कहा जाता है इन्हें हम कच्चा भी खा सकते है और कई तरह के खानों में भी इस्तेमाल कर सकते है. ये हर किसी का पसंदीदा ड्राई फ्रूट है खासकर बच्चे इसे बड़े चाव से खाते है. बुखार, अनीमिया, कब्ज़, पेट में एसिडिटी, यौन रोग और दूसरी कई बीमारियों में किसमिस राहत पहुचाती है. किशमिश वजन बढ़ाने के साथ हड्डियों, दांतों और आँखों के लिए भी बहुत फायदेमंद है. किशमिश को पानी में भिगोकर रखकर सुखाने से मुनक्का बनती है मुनक्का की तासीर गर्म होती है. दोस्तों इस पोस्ट में आज आप जानेंगे किशमिश खाने के फायदे, औषधीय गुण: किसमिस (kishmish) खाने का सही तरीका.

 

किशमिश कैसे बनती है?: अंगूर को सुखाने से kishmish का निर्माण होता है. वो चाहे सूरज की रौशनी में हो या छाव में. जिससे अंगूर का रंग काला, सुनहरा और हरा हो जाता है. ऐसे इसमें बहुत से पौष्टिक गुण और बढ़ जाते है. इसलिए इसे काला जवाहरात भी कहा जाता है. किशमिश कार्बोहाइड्रेट काफी मात्रा में होता है जिससे ये फल एनर्जी का अच्छा स्त्रोत बन जाता है.

किशमिश के फायदे Kishmish खाने का सही तरीका इन हिंदी

Kishmish ke Fayde

किशमिश खाने के फायदे: Health Benefits of Raisins in Hindi

1.मधुमेह (Diabetes)

शुगर को नियंत्रण में करने में किशमिश कारगर है. डायबिटीज की मरीज को खाना खाने के बाद इंसुलिन का स्तर एकदम से बढ़ता है. और ये ड्राई फ्रूट हमारे शरीर द्वारा शुगर लेने की प्रक्रिया को और बेहतर बनाता है. लेप्टिन और घ्रालिन ऐसे हारमोंस है जो हमारी बॉडी को ये बताते है कब हमें भूख लगी है और कब हमारा पेट भर गया है. और किशमिस इन ह्रामोंस को स्थिर करती है जिससे खानपान पर कंट्रोल रहता है और हम ज्यादा खाने से बचते है. जो मधुमेह के मरीज के लिए काफी जरुरी है.

 

2. बुखार

रसिन में Phenolic Phytonutrients नाम का एक पौषक तत्व पाया जाता है जो अपने एंटीबायोटिक, एंटीऑक्सीडेंट और antibacterial गुणों के लिए मशहूर है. जिस वजह से वायरल बुखार के इलाज और बैक्टीरियल इन्फेक्शन से लड़ने में ये फल काफी मददगार है.

 

3. एनीमिया

किशमिश में आयरन (लोहा) भरपूर मात्रा में होता है जो एनीमिया के उपचार के लिए आवश्यक है. इस ड्राई फ्रूट में विटामिन बी और कॉपर भी पाया जाता है जो नया खून और लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने में मदद करता है. जिससे anemia के दौरान खून की कमी दूर होती है.

 

4. हड्डियों के लिए फायदे

हम सबको पता है हड्डियों के लिए कैल्शियम कितना जरुरी है और किशमिश में कैल्शियम होता है जो हड्डियों में कैल्शियम की कमी पूरी करके हड्डिया मजबूत बनाता है. इसके अलावा इसमें बोरोन तत्व भी होता है जो महिलाओ में ऑस्टियोपोरोसिस नाम के हड्डियों के रोग होने से रोकता है. पोटाशियम भी एक और तत्व है जो किसमिस में होता और हड्डियों और जोड़ो के लिए फायदेमंद है.

 

5. यौन रोग में फायदे

किशमिश में Arginine नाम का एमिनो एसिड होता है जो पुरुषो में शुक्राणु संख्या (Sperm Count) बढाता है. जिससे बच्चा बनने के सम्भावना बढती है और सम्भोग के समय उतेजना पैदा करके कामेच्छा बढाता है. भारत में ये पुराने समय से परम्परा रही है सुहागरात वाले दिन पति को गर्म दूध में किशमिश और केसर डालकर पिलाया जाता है.

 

6. दांतों के लिए लाभकारी

दांतों को मजबूत बनाने और दांत के रोगों से बचने के लिए किशमिश खानी चहिये. जैसा की हमने उपर भी बताया किशमिश में कैल्शियम होता है जो दांतों के लिए भी लाभदायक है. दांतों को ख़राब करने वाले बेक्टेरिया से हमारे दांतों की रक्षा करता है

 

7. एसिडिटी से छुटकारा

जब हमारे पेट में एसिडिटी बढ़ जाती है तो वो खून में प्रवेश करके Acidosis नाम के रोग का रूप ले लेती है. एसिडिटी से बहुत से गंभीर समस्या भी पैदा हो सकती है जिनमे ह्रदय रोग, बालो का झड़ना, गठिया और दुसरे कई रोग आते है. किशमिश (Raisins) potassium और  magnesium का एक अच्छा स्त्रोत है जो एसिडिटी कम करने में गजब का काम करते है. इसलिए जिन लोगो को एसिडिटी की समस्या है वो किशमिश को अपने आहार में शामिल जरुर करे.

किशमिश खाने का सही तरीके : Kishmish khane ka tarika Hindi me

किशमिश (kishmish) खाने का सही तरीके  How to eat Raisins in Hindi

किशमिश खाने का तरीके

किशमिश खाने के कई तरीके है. Kismish खाने का सही तरीका निर्भर करता है आपको किस फायदे के लिए खाना है. हम जो आज आपको तरीका बताएँगे वो कई तरह के रोगों और स्वास्थ्य सम्भाधित समस्याओ में फायदेमंद होता है.

  • किशमिश का पानी: इस घरेलू नुस्खे के लिए एक बर्तन में लगभग एक लीटर पानी ले और उसमे 10 किशमिश डालकर उसे उबाले. कुछ समय तक उबलने के इस पानी को पूरी रात के लिए रख दे. सुबह खली पेट किशमिश के पानी को पिए. ये पानी एसिडिटी, कब्ज़, कमजोरी दूर करने के साथ आपके कोलेस्ट्रोल कंट्रोल में रखने में मदद करेगा.
  • दूध में मुनक्का: किशमिश खाने का दूसरा जो सही तरीका वो है मुनक्का को दूध में उबाल कर खाए. पुरुषो की यौन समस्याए, ह्रदय रोग और वजन बढ़ाने के लिए ये तरीका फायदेमंद है. 300 से 500 ग्राम दूध में 10 मुनक्का और एक चमच्च देसी घी डालकर उबाले. अब इस दूध को ठंडा करके पिए.

 

दोस्तों हमारे इस लेख किशमिश के फायदे और Kishmish खाने का सही तरीका? के बारे में अपनी राय हमसे जरुर साँझा करे. इसके अलावा अगर आपका कोई सवाल है किशमिश (Raisins) को लेकर तो निचे जरुर पूछे.

One Response

  1. MANOJ KUMAR

Leave a Reply

error: Content is protected !!