पथरी होने के 8 शुरूआती लक्षण: Kidney Stone Symptoms in Hindi

पथरी होने के लक्षण इन हिंदी : गुर्दे में पथरी मिनरल्स और नमक का एक ठोस संग्रह होता है जो कैल्शियम या आयरन से बना होता हैं। दिखने में ये बिलकुल एक पत्थर के जैसा दिखाई देता हैं। पथरी का साइज अलग अलग हो सकता हैं एक छोटे दाने से लेकर कई इंच मोटा तक इसका आकर हो सकता हैं। छोटे साइज की पथरी पेशाब के रास्ते अपने आप बाहर निकल जाती हैं। किडनी में पथरी तब बनती है जब कुछ खनिज (minerals) आपके पेशाब में जमा हो जाता हैं। और जब आप पानी कम पीते हैं तब वो खनिज और बढ़ते जाते हैं वो एक ठोस पथर का रूप ले लेते हैं। जब पेशाब में खनिजो की मात्रा ज्यादा होती है तब पथरी बनने की संभावना अधिक होती हैं।

जो छोटी पथरी गुर्दे में ही रहती हैं जिनके लक्षण सामने नहीं आते। ये भी हो सकता हैं आपको बिलकुल कुछ महसूस ना हो जब तक की वो  आपके मूत्रमार्ग में प्रवेश ना करे। मूत्रमार्ग जिसे इंग्लिश में Ureter कहते हैं वो हिस्सा हैं जिसमे से होकर पेशाब किडनियों से ब्लैडर तक पहुचता हैं। ज्यादातर मामलो में गुर्दे की पथरी में दर्द काफी ज्यादा होता हैं। अधिकतर पथरी खुद ही बाहर निकल जाती हैं और जो नहीं लगती उन्हें आप कुछ घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक दवाइयों से उन्हें तोड़कर पेशाब के रस्ते बाहर निकाल सकते हैं।

गुर्दे की पथरी के लक्षण : Kidney Stone Symptoms in Hindi

पथरी के लक्षण

गुर्दे की पथरी के लक्षण : Kidney Stone Symptoms in Hindi

मर्दों को महिलाओ के मुकाबले ज्यादा पथरी की शिकायत रहती हैं। पथरी होने के कुछ आम लक्षण निचे दिए गए हैं।

1. पीठ या पेट में तेज़ दर्द उठना

पथरी होने पर असहनीय दर्द होता हैं। दर्द इतना अधिक होता है की कुछ लोग इसकी तुलना महिलाओ को प्रसव के दौरान होने वाले दर्द से भी करते हैं। ये दर्द तब शुरू होता हैं जब पथरी मूत्राशय के तंग रास्ते से गुजरता हैं। इससे कई बार पेशाब की रुकावट भी हो जाती है जो किडनी पर दबाव को बढाती हैं।

पथरी का दर्द आता जाता रहता हैं। दर्द की जगह और मात्रा निर्भर करती हैं पथरी मूत्राशय में कहा पर हैं। दर्द तब ज्यादा बढ़ जाता हैं जब मूत्राशय पथरी को आगे सरकने के लिए सिकुड़ता हैं। ये दर्द आपके पीठ में, पसलियों में या पेट के बीच में हो सकता हैं। और ये जरुरी नहीं की दर्द ज्यादा है तो पथरी का साइज़ भी उतना ही बड़ा होगा। कई बार छोटी पथरी भी अधिक दर्द पैदा कर सकती हैं।

2. बार बार पेशाब आना

दिन और रातो को बार बार पेशाब आना भी पथरी होने के एक संकेत के रूप ने नज़र आ सकता हैं। जब पथरी मूत्रमार्ग के निचले हिस्से में पहुचता है तब पेशाब त्यागने की ज्यादा इच्छा होती हैं।

अगर आपको भी ऐसे पेशाब की दाब अधिक लग रही तो आपको जांच करा लेनी चहिये की पथरी है या नहीं। हालाँकि बार बार पेशाब आने को यूरिन इन्फेक्शन होने का लक्षण भी हो सकता हैं।

3. पेशाब करते समय दर्द या जलन होना

जब पत्थर मूत्राशय और ब्लैडर के जुड़ाव वाली जगह पर पहुँचता है तब यूरिन करते समय दर्द होता हैं। डॉक्टरी भाषा में इस समस्या को डायसुरिया के नाम से बुलाते हैं। ये दर्द तीखा तेज़ या फिर जलन के रूप महसूस हो सकता हैं।

अगर आपको पथरी नहीं है तो ऐसा होने पर ये यूरिन इन्फेक्शन होने का भी एक संकेत हो सकता हैं। कई बार पथरी और इन्फेक्शन दोनों हो सकते हैं।

4. बदबूदार या झागदार पेशाब आना

एक नार्मल स्वस्थ इंसान के पेशाब में ज्यादा तेज़ बदबू नहीं होती। पेशाब में झागे और बदबू किडनी या पेशाब में संक्रमण होने का लक्षण हो सकता हैं। और एक स्टडी में ये देखा गया हैं लगभग 8-10 % लोग जिन्हें किडनी स्टोन होता हैं उन्हें यूरिन इन्फेक्शन भी होता हैं।

जब पेशाब में पस हो जाती है तब ऐसे झाग बनते हैं। और बदबू उन बैक्टीरिया की वजह से आती हैं जो संक्रमण पैदा करते हैं।

5. पेशाब के साथ खून आना

पेशाब में खून आना भी एक मूत्राशय में पथरी होने का आम लक्षण होता हैं। खून का रंग गहरा लाल, गुलाबी या भूरा हो सकता हैं जिसे कई बार नंगी आँखों से देखा पाना भी मुमकिन नहीं होता हैं। पेशाब की जांच से इसका पता लगाया जा सकता हैं। यूरिन के साथ रक्त आने को हेमेटुरिया के नाम से भी जाना जाता हैं।

6. जी मिचलाना और उलटिया लगना

पथरी होने पर घबराहट और उल्टिया होना आम होता है। जब गुर्दे में पथरी बनती हैं तो किडनी से कुछ सिग्नल निकलते हैं जो नर्व के माध्यम से पेट ख़राब कर देते हैं जिससे जी मिचलाना और उल्टिया लगने के लक्षण दिखाई देते हैं। पथरी का तेज़ दर्द होने पर उल्टिया और घबराहट हमारे शरीर द्वारा की गयी प्रतीकात्मक प्रक्रिया होती हैं।

7. बुखार के साथ ठण्ड लगना

जब पथरी के साथ इन्फेक्शन भी होता है तब ठण्ड के साथ बुखार चढ़ जाता हैं। संक्रमण होने पर बुखार तेज़ होता है जो 100 डिग्री सेल्सियस से उपर ही होता हैं। पीड़ित व्यक्ति बुखार को साथ कंपन और ठण्ड भी लगती हैं। बुखार और ठण्ड कई अन्य बीमारियों के लक्षण के रूप में भी हो सकता हैं।

8. पेशाब में रुकावट

जब पथरी का साइज़ बड़ा होता तो ऐसे में वो पत्थ मूत्राशय में फस जाता हैं जिससे यूरिन रुक जाता है या काफी कम पास होता हैं। जब ये रुकावट बनती हैं तो पेशाब काफी कम आता हैं जिससे आपको बार बार मूत्र त्यागने जाना पड़ता हैं। अगर आपको भी ऐसा हुआ है तो ये एक पथरी होने का लक्षण हो सकता हैं जिसको जानने के लिए आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाकर टेस्ट करा लेना चाहिए।

दोस्तों इस पोस्ट गुर्दे की पथरी के लक्षण : Kidney Stone Symptoms in Hindi? को लेकर अपने सवाल जरुर पूछे। अगर आप कोई और Pathri ke Lakshan हमारे साथ शेयर करना चाहते है तो उन्हें भी हमें कमेंट में जरुर बताए .

 

 

Leave a Reply

error: Content is protected !!