किडनी रोग के लक्षण और घरेलू उपचार के 7 सफल नुस्खे

किडनी रोग के लक्षण और घरेलू उपचार : किडनी यानी गुर्दे हमारे शरीर का एक अहम अंग है जो हमारे बॉडी में मौजूद अशुद्धियों और विषैले पदार्थो को बाहर निकलता है। किडनी में दर्द और सूजन होना 2 आम समस्याए है। आजकल खान-पान की गलत आदतों, अस्वस्थ जीवनशैली और प्रदूषित वातावरण के कारण गुर्दे की बीमारिया बढ़ती जा रही है। जो आखिर में किडनी ख़राब (फेल) होने का कारण बनते है जिसका इलाज लगभग असंभव बन जाता है। उस अवस्था में रोगी को डायलिसिस करवाना पड़ता है जिसके लिए दवा (medicine) का खर्चा काफी ज्यादा होता है।  इसलिए समय रहते ही इसके लक्षण जानकर इलाज कराना बहुत जरुरी होता है। आज के लेख में हम बताएँगे Kidney kharab hone ke Lakshan aur Desi ilaj in Hindi.

गुर्दे के रोगों में सबसे बड़ी परेशानी ये है की इसका हमें जल्दी से पता नहीं रहता और जब पता लगता है तब तक काफी देर हो चुकी होती है। इसलिए सवाधानी से किडनी ख़राब होने से पहले ही इसके लक्षणों की पहचान करना बहुत आवश्यक है। आपके शरीर में 2 किडनिया होती है जो एक मिनट में लगभग 125 ml खून को साफ़ करती है।  किडनिय ना सिर्फ पेशाब की जरिये हानिकारक चीजे बाहर निकलती है ये अंग आपके ब्लड प्रेशर और कैल्शियम की मात्रा को नियत्रण में रखती है इसके साथ नयी लाल रक्त कौशिकाओ का निर्माण और इलेक्ट्रोलाइट का संतुलन बनाये रखने में भी अहम भूमिका निभाती है।

किडनी गुर्दे रोग के लक्षण घरेलू आयुर्वेदिक उपचार के नुस्खे

 

किडनी रोग के लक्षण : kidney kharab hone ke lakshan in Hindi

  1. जब हमारी किडनिय सही से काम नहीं करती तो हमारे शरीर में अशुधिया बढ़ जाती है जिससे शारीरिक और मानसिक थकावट काफी ज्यादा रहती है। जल्दी से थक जाना और नींद ज्यादा आना इस बीमारी के लक्षणों में से है।
  2. जब हम पेशाब करते है मूत्र के साथ खून आना या पेशाब में झाग बनना।
  3. पेशाब ज्यादा आना या फिर काफी कम आना किडनी ख़राब होने का लक्षण हो सकता है।
  4. जब गुर्दे बॉडी से फालतू तरल बाहर नहीं निकल पाती तो चेहरे, हाथो और पैरो में सूजन आ जाती है।
  5. भूख कम लगने के कई कारण हो सकते है पर जब गुर्दे की बीमारी होती है तब भी भूख काफी कम हो जाती है।
  6. रोगों को हमेशा ठण्ड महसूस होती है। यह तक की गर्म मौसम में भी कई अबर सर्दी लगती है।
  7. त्वचा सुखी पड़ जाना और तेज खुजली होना।
  8. खाने का स्वाद बदल जाना जिससे आप खाना कम कर देते है और तेज़ी से वजन कम होने लगता है।
  9. पेशाब गाढ़ा और रंग में गहरा पीला दिखाई देना।
  10. सोचने और समझने की शक्ति कमज़ोर महसूस होना।

उपर बताये गए किडनी रोग के लक्षण अगर आपको दिखाई दे तो किडनी टेस्ट कराये और निचे बताये गुर्दे की बीमारी का घरेलू उपचार के उपाय करे।

 

किडनी (गुर्दे) रोग के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार के नुस्खे

1. किडनी ठीक रखने के लिए हाइड्रेटेड रहना काफी जरुरी है उसके लिए भरपूर मात्रा में पानी पीना चाहिए, इससे हम बहुत से गुर्दे की बीमारियों से बचा जा सकता है। जितना हम पानी पियेंगे उतना ही हानिकारण रसायन और बेक्टेरिया पेशाब के साथ बाहर निकलेंगे जिससे हम यूरिन इन्फेक्शन और दूसरी बीमारी से बचेंगे।

2. गुर्दे में इन्फेक्शन खत्म करने के लिए शहद और सेब का सिरका काफी कारगर है। इन दोनों को साथ में इस्तेमाल करके बनाया गया घरेलू नुस्खा और भी असरदार बन जाता है। 2 चमच्च शहद और एक चमच्च सेब का सिरका मिलाये और रोजाना सेवन करे।

3. जिस तरह किसी भी मशीन को ठीक से काम करने के लिए उसकी सफाई की आवश्यकता होता है वैसे ही हमारी किडनियों को भी होती है। और इसके लिए फलो का रस पीना काफी फायदेमंद साबित होता है। विषेले पदार्थ बाहर निकलने और इन्फेक्शन ठीक करने के लिए डेली फलो का जूस पीना शुरू करे। क्रेनबेरी, संतरा, सेब, अंगूर या निम्बू जैसे फलो का रस पीए। विशेषकर क्रेनबेरी का जूस इसमें काफी प्रभावी है।

4. बेकिंग सोडा को एक आयुर्वेदिक दवा के रूप में किडनी के रोग का उपचार करने के लिए किया जा सकता है। बेकिंग सोडा बॉडी में बाइकार्बोनेट का उचित स्तर बनाए रखता है। इस घरेलू उपाय को तैयार करना काफी आसान है। 250 ml पानी में एक चमच्च बेकिंग सोडा की डालकर अच्छे से मिलाए और रोजाना सेवन करे।

5. एलोवेरा का नियमित रूप से सेवन हमें कई गंभीर बीमारियों से बचा सकता है। अगर आप गुर्दे की बीमारियों से पीड़ित है तो आपको डेली एलोवेरा का जूस पीना शुरू करे।

6. किडनी के रोग का घरेलू इलाज के लिए मुनक्का एक रामबाण उपाय है। रात को सोने से पहले कुछ मुनक्का पानी में भिगो दे और सुबह भीगे हुए मुनक्का के पानी को पिए।

7. गुर्दे को स्वस्थ रखने और फेल होने से बचाने के लिए विटामिन C का सेवन करना चहिये। निम्बू और संतरे में विटामिन सी काफी मात्रा में पाया जाता है। इसलिए रोजाना निम्बू रस और संतरे के जूस का सेवन करे।

 

किडनी रोगी का आहार (Diet) और परहेज

  • खाने में नमक का उपयोग कम से कम करे। नमक खाने से गुर्दे की बीमारी और ज्यादा बढ़ जाती है।
  • खाने पीने की चीजो में सफाई का पूरा ध्यान रखे। खुले में रखी सब्जिया या फलो को पहले अच्छे से धोये।
  • मीट और नॉन वेज का सेवन कम से कम करे। मीट खाने वालो में किडनी रोग होने की संभावना अधिक होती है।
  • सिगरेट या बीडी पीना बिलकुल बंद कर दे। धुम्रपान करने से kidney पर बुरा प्रभाव पड़ता है।
  • विटामिन सी युक्त खाने और तरल पदार्थो का सेवन ज्यादा करे।
  • लहसुन और प्याज़ का सब्जियों में उपयोग जरुर करे। इन्हें आप सलाद के रूप में भी खा सकते है।

पढ़े: बाबा रामदेव के घरेलू नुस्खे और देसी उपाय

प्यारे पाठको हमारे इस लेख किडनी रोग के लक्षण और घरेलू आयुर्वेदिक उपचार? के बारे मेंने राय या सवाल निचे जरुर लिखे। अगर किसी के पास कोई और गुर्दे की बीमारी का इलाज के लिए घरेलु नुस्खा या उपाय है तो वो भी निचे शेयर कर सकते है।

loading...

Leave a Reply

error: Content is protected !!