शुगर के 10 प्रारंभिक लक्षण : Diabetes ke Lakshan in Hindi

Diabetes Sugar ke Lakshan : जरुरी पौषक तत्वों की कमी, अस्वस्थ दिनचर्या और नियमित व्यायाम ना करना शुगर की बीमारी होने के कुछ कारणों में से है। शुगर को हिंदी में मधुमेह और अंग्रेजी में डायबिटीज (Diabetes) के नाम से जाना जाता है। शुगर का रोग एक बार हो जाए तो तमाम उम्र पीछा नहीं छोड़ता, इसमें ब्लड शुगर की मात्रा बढ़ जाती है। मधुमेह गंभीर रोग है जिसकी शुरुआत धीरे – धीरे होती है जिससे समय पर शुगर के लक्षण  पहचान पाना मुश्किल होता है। विशेषकर मधुमेह टाइप 2 के लक्षण । अगर समय रहते डायबिटीज के लक्षण का पता ना लगे और शुगर का इलाज ना किया जाए तो इसे कंट्रोल करना काफी मुश्किल बन जाता है।

 

डायबिटीज की बीमारी में ब्लड शुगर की मात्रा समान्य से ज्यादा हो जाती है। हम जो भी खाना खाते है उससे हमें ग्लूकोज मिलता है और इन्सुलिन हारमोंस ग्लूकोज के जरिये हमारे शरीर को उर्जा प्रदान करता है। शुगर रोग आम तौर पर 2 प्रकार का होता है मधुमेह टाइप 1 और टाइप 2 . टाइप 1 डायबिटीज में बॉडी इन्सुलिन बनाना बंद कर देता है और टाइप 2 शुगर जो सबसे ज्यादा आम होता है उसमे इन्सुलिन को सही से काम में लिया नहीं जाता।

शुगर के लक्षण Diabetes Sugar ke Lakshan in Hindi

Diabetes Sugar ke Lakshan in Hindi

मधुमेह टाइप 1 और टाइप 2 शुगर के लक्षण

Diabetes (Sugar) ke Lakshan in Hindi

डायबिटीज कितना गंभीर रोग है उसका अंदाज़ा इसी से लग जाता है एड्स और कैंसर से कही ज्यादा लोग शुगर की बीमारी से मरते है। इसलिए अगर निचे बताए गए लक्षण सामने आये तो बिलकुल भी नज़रंदाज़ ना करे और डॉक्टर की सलाह के अनुसार शुगर का इलाज शुरू कर दे।

1.  बार बार पेशाब आना और मुह सूखना

बार बार प्यास लगना और खुस्की रहना डायबिटीज के शुरूआती लक्षण में से है। आम तौर पर हमारी बॉडी गुलुकोस सौक लेती है जब ये किडनी से गुजरता है। लेकिन मधुमेह होने पर ब्लड में शुगर का लेवल बढ़ जाता है  जिसको किडनिया कंट्रोल नहीं कर पाती। जिसके कारण ज्यादा यूरिन बनाने की जरुरत होती है जो अधिक प्यास लगने का कारण होता है और जब पानी ज्यादा पीते है तो बार बार पेशाब आता है

2. अचानक वजन कम होना

अगर आप खा पी सही से रहे है और ना कोई ऐसे Weight Loose करने की एक्सरसाइज कर रहे और फिर भी वजन कम होता जा रहा है तो ये भी शुगर का लक्षण हो सकता है। डायबिटीज में रोगी की बॉडी में गुलुकोसे लेने की अक्षमता कम हो जाती है जिससे बार बार पेशाब भी आता रहता है। इन्सुलिन की कमी के कारण ब्लड शुगर कौशिकाओ में पहुच नहीं पाती जिससे वजन तेज़ी से कम होने लगता है।

3. घाव जल्दी ना भरना

मधुमेह के रोगी को अगर थोड़ी सी भी चोट लग जाती है तो भी उसे ठीक होने में काफी टाइम लगता है। शुगर में हमारी इम्युनिटी पर भी प्रभाव पड़ता है और खून में शुगर लेवल बढ़ने की वजह से खून को घाव वाली जगह पहुचने में समय लगता है जिससे घाव जल्दी नहीं भर पाते। अगर ऐसा कोई लक्षण दिखाई दे रहा है तो आपको शुगर टेस्ट करा लेना चाहिए।

4. भूख ज्यादा लगना

भूख में एकदम से बढ़ोतरी होना शुगर रोग होने के एक लक्षण हो सकता है। खून में शर्करा का संतुलन बिगड़ने से इन्सुलिन लेवल भी बिगड़ जाता है। जिससे बॉडी को जरुरी उर्जा नहीं मिल पाती। ऐसे में शरीर और एनर्जी पाने के लिए भूख पैदा करता है जिससे खाना खाने से और उर्जा मिल सके।

5. त्वचा में सूखापन

डायबिटीज में खून का दौरे पर तो प्रभाव पड़ता है और साथ में sweat gland function पर प्रभावित होता है।  जिससे स्किन से संबधित कई परेशानिया आ सकती है। जिनसे त्वचा में रूखापन और खुजली जैसे लक्षण दिखाई देते है।

6. थकावट रहना

डायबिटीज में जरुरी ग्लूकोस शरीर की मांशपेशियो तक नहीं पहुच पता जिससे उर्जा की कमी हो जाती है। इसलिए मधुमेह का रोगी हमेशा थकान महसूस करता रहता है। अधित थकावट और चिडचिडापन रहना Sugar के लक्षणों में से है।

7. हाथो पैरो में सुन्नपन और दर्द होना

ब्लड शुगर बढ़ जाने से रक्त वाहिकाओ और तंत्रिकाओ को हानि पहुचती है। जिससे हाथो और पैरो में जलन और सुन्नपन होना शुरू हो सकता है।  विशेषकर पैरो में ऐसे समस्याए ज्यादा होती है क्योंकि पैर दिल (हार्ट) से सबसे दूर होते है।

8. धुंधला दिखाई देना

मधुमेह में ब्लड सर्कुलेशन पर जो असर होता है उससे हमारी देखने की शक्ति पर भी प्रभाव पड़ता है। शुगर बढ़ने पर जो खून की कौशिकाओ पर नुकसान पड़ता है जिससे वो आँखों के लेंस से द्रव को खीचता है। जिससे दिखने में समस्या आने लगती है और धुंधला दिखाई देने लगता है। जब भी ऐसा कोई लक्षण दिखाई दे तो लापरवाही किये बिना डॉक्टर से मिले।

9. इन्फेक्शन बार बार होना

मधुमेह टाइप 2 के मरीजो आसानी से यीस्ट इन्फेक्शन होने की संभावना बढ़ जाती है। ग्लूकोज का स्तर ज्यादा होने के वजह से किसी भी तरह के संक्रमण से लड़ना मुश्किल जाता है। जिससे यूरिन इन्फेक्शन और महिलाओ में योनि संक्रमण से बार बार सामना करना पड़ता है।

10. हाई ब्लड प्रेशर

अगर किसी को उपर बताए लक्षण महसूस हो रहे है तो उन्हें अपना ब्लड प्रेशर की जांच करवा लेना चाहिए। आम तौर पर ब्लड प्रेशर 140/90 होता है अगर आपको टाइप 2 डायबिटीज है तो बीपी 135/80 से ज्यादा नहीं होगा।

 

शुगर (डायबिटीज) से बचने के उपाय और सावधानिया

  • वजन नियत्रण में रखने के लिए नियमित रूप से व्यायाम या योगा करे।
  • फलो और हरी सब्जियों का सेवन ज्यादा करे।
  • टेंशन में रहने से शुगर होने की सम्भावना ज्यादा होती है। इसलिए तनाव से दूर रहने के कोशिश करे।
  • शराब और धूम्रपान से परहेज़ बनाए  रखे।
  • ज्यादा शुगर वाले खानो का सेवन कम करे।
  • पानी ज्यादा पिए
  • अगर कोई शुगर का लक्षण महसूस हो तो ब्लड शुगर टेस्ट करवाए।

मित्रो हमारे इस पोस्ट में बताए शुगर (मधुमेह) के लक्षण : Diabetes ke Lakshan in Hindi? से सम्बधित सवाल निचे लिखे। अगर किसी पाठक को कोई Sugar ke lakshan दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर के पास जाकर जांच करवाए।

Leave a Reply

error: Content is protected !!