बवासीर में दर्द और मस्से जड़ से ख़त्म करने के 10 घरेलू इलाज

Bawaseer ka ilaj in Hindi : बवासीर को अंग्रेजी भाषा में Piles (Hemorrhoids) के नाम से जाना जाता हैं। ये एक ऐसी बीमारी हैं जिसमे गुदा के बाहर या अंदर की नसों में सूजन आ जाती हैं जो मस्से के जैसे दिखाई देते हैं। बवासीर में कई बार खून का भी बहाव होने लगता हैं जिससे रोगी को कमजोरी भी बहुत महसूस होती हैं। इसे खूनी बादी बवासीर के नाम से भी जाना जाता हैं लेटरिन करते समय दर्द, जलन या रक्तस्त्राव इसके होने के कुछ आम लक्षण होते हैं। ज्यादातर मामलो में ये समस्या खुद ठीक हो जाती हैं, पर जब ये बढ़ जाए तो ये एक गभीर बीमारी का रूप ले लेती हैं जो जल्दी से ठीक नहीं होती। पाइल्स ट्रीटमेंट के लिए कई तरह की देसी, आयुर्वेदिक और अंग्रेजी दवाए बाज़ार में उपलब्ध हैं लेकिन आज हम बवासीर का इलाज के कुछ घरेलू नुस्खे बताने जा रहे हैं जिनसे आप कुछ ही समय में bawasir के मस्से और दर्द में आराम महसूस करेंगे।

अधिकतर मामलो में जेनेटिक फैक्टर को इस बीमारी से जोड़ के देखा जाता हैं। इसका मतलब है अगर आपके परिवार में पहले किसी को बवासीर हुआ है तो आपको भी इसके होने की संभावना बढ़ जाती हैं। बवासीर मुख्य रूप से 2 प्रकार का होता हैं भीतरी और बाहरी। भीतरी यानी Internal Piles में गुदा के अंदर सूजन या मस्से हो जाते हैं और बाहरी पाइल्स यानि external piles में गुदा के बाहर मस्से या सूजन आती हैं। जो देखने पर गाँठ के जैसे भी दिखाई देती हैं। उम्र बढ़ने के साथ साथ इसके होने की संभावना जायदा होती जाती हैं। 45 से 65 साल के लोगो में बवासीर की समस्या ज्यादा देखी जाती हैं।

बवासीर के मस्से दर्द का इलाज bawaseer piles ka ilaj in Hindi

Bawaseer (Piles) ka ilaj

बवासीर होने के आम कारण : Piles Causes in Hindi

  • लम्बे समय तक कब्ज़ का रहना
  • फिजिकल एक्टिविटी कम करना (एक जगह ज्यादा बैठे रहना)
  • ज्यादा वजन भी बवासीर होने की एक वजह बन सकता हैं।
  • रीढ़ की हड्डी की चोट (Spinal Cord Injury)
  • प्रेगनेंसी में पाइल्स होने की आशंका बढ़ जाती हैं।
  • ज्यादा वजन उठाना (Heavy Weight Lifting)

जाने : बवासीर के 5 आम लक्षण

बवासीर (पाइल्स) के मस्से का इलाज के नुस्खे

Bawasir ke Masse aur Dard ka ilaj in Hindi

1. निम्बू का जूस

बवासीर रोग में नीबू का रस एक कारगर होम रेमेडी हैं। निम्बू में कई ऐसे पौषक तत्व मौजूद होते हैं जो आपके रक्त काशिकाओ में मजबूती प्रदान करते हैं जिससे पाइल्स में राहत मिलती हैं।

  • एक ताज़ा निम्बू का रस निकाले और उसमे रुई भिगोकर पाइल्स वाली जगह पर लगाए। शुरू में आपको थोड़ी जलन महसूस होगी पर कुछ ही देर में दर्द में आराम दिखाई देने लगेगा। निम्बू से बवासीर का घरेलू इलाज के लिए दूसरे विकल्प में आप एक गिलास दूध में एक निम्बू निचोड़ कर भी पी सकते हैं। जल्दी असर के लिए हर 4-5 घंटे में ये नुस्खा ले।

2. अरण्डी का तेल (Castor Oil)

अरण्डी का तेल एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होने के साथ में सूजन विरोधी और एंटीबैक्टीरियल होता हैं। जिससे बवासीर में होने वाले मस्सो गाँठ और दर्द कम होने में मदद मिलती हैं।

  • कास्टर आयल का सेवन भीतरी और बाहरी दोनों तरह के बवासीर में किया जा सकता हैं। रात को सोने से पहले दूध में 3 ml अरण्डी का तेल डालकर पिए। इसके साथ में जहा पर बवासीर के मस्से है वहा भी इस तेल को लगाए।

3. बर्फ सिकाई

ये एक सबसे आसान और असरदार पाइल्स ट्रीटमेंट का घरेलू तरीका हैं जिसका सुझाव आपको सबसे मिलेगा। बर्फ हमारी रक्त कैशिकाओ को सिकुड़ता हैं जिससे खून के बहाव और सूजन में तुरंत कमी आती हैं। इसके साथ में आपको बवासीर के दर्द में भी आराम मिल जाता हैं।

  • कुछ बर्फ के टुकड़े एक तौलिये में लपेट कर उससे प्रभावित जगह पर सिकाई करे। 8-10 मिनट तक सिकाई करे और इसे दिन में कई बार दोहराते रहे।

4. बादाम का तेल

अगर आपको बाहरी बवासीर के मस्से है तो बादाम का तेल आपके लिए वरदान साबित हो सकता हैं। बादाम का तेल त्वचा में नमी बनाता हैं और बवासीर में होने वाली जलन और खुजली दूर करने का काम करता हैं।

  • दिन में कई बार बादाम के तेल में रुई भिगोकर उससे बवासीर वाली जगह लगाए।

5. हल्दी (Haldi se bawaseer ka ilaj)

नेचुरल तरीके से बवासीर का इलाज करने के लिए हल्दी एक सटीक घरेलू नुस्खा हैं। हल्दी स्वभाव में anti-inflammatory होता हैं जिससे तेज़ी से सूजन में कमी आती हैं। बवासीर का जन्म ही गुदा के अंदर या आस पास की मांसपेशियों में सूजन आने से होता हैं। हल्दी को एलोवेरा के साथ मिलाने पर इसका असर और बढ़ जाता हैं।

  • एक चमच्च अलोवेरा जेल में आधी चमच्च हल्दी पाउडर अच्छे से मिलाए। अब इस मिश्रण को गुदा के आस पास के उस हिस्से पर लगाए। ऐसा आप रात को सोने से पहले करे। हल्दी जहा फिशर को ठीक करने का काम करेगा वही एलोवेरा टिश्यू में आई सूजन को कम करेगा।

पढ़े : कब्ज का रामबाण इलाज के 10 उपाय

बवासीर के इलाज के घरेलू उपाय और सावधानिया

  1. पानी ज्यादा पीना शुरू करे। जितना अधिक आप पानी पियेगे उतनी ही जल्दी बवासीर से छुटकारा मिलने में मदद होगी।
  2. ज्यादा मिर्च मसालों के खानों से परहेज़ करे, फ़ास्ट फ़ूड से भी दूर रहे।
  3. रात को पानी में 4-5 किशमिश भिगोये और सुबह पानी समेत उन्हें खाए।
  4. पाइल्स के इलाज के लिए मूली का रस काफी असरदार होता हैं। दिन में 2 बार मुली का रस पिए। शुरुआत एक चौथाई गिलास मुली के रस से करे और धीरे धीरे आधे गिलास तक मात्रा बढाए।
  5. कब्ज़ को बवासीर होने का सबसे बड़ा कारण माना जाता हैं। अगर आपको भी कब्ज़ है तो उसके लिए त्रिफला चूर्ण का सेवन करे।

दोस्तों आपको ये लेख बवासीर के मस्से और दर्द का इलाज : Bawasir ka ilaj in Hindi? कैसा लगा हमें कमेंट्स में लिखकर जरुर बताए। अगर कोई पाठक बवासीर जड़ से ख़त्म करने का कोई घरेलू नुस्खा या उपाय शेयर करना चाहता है तो उसे भी कमेंट्स में लिख सकता हैं।

Leave a Reply

error: Content is protected !!