बदहजमी और खट्टी डकार का इलाज के 10 घरेलू उपाय

बदहजमी का इलाज हिंदी में: खाने की गलत आदतों के कारण बदहजमी होना एक आम पेट की समस्या है. बदहज़मी को खट्टी डकार या अपच (Dyspepsia) भी कहा जाता है. भोजन को हज़म करने के लिए हमारे पेट में एक तरह का जूस बनता है जिससे खाना आसानी से हजम हो जाता है और जब ये रस का स्त्राव उचित मात्रा में ना हो तो बदहजमी या हाज़मा ठीक नहीं हो पाता. तला हुए और वसा से भरपूर ज्यादा  खाना इसका विशेष कारन होता है. इसके शुरूआती लक्षणों में हमे पेट में गैस, एसिडिटी , तेजाब बनना और जलन जैसे समस्या होती है. पाचन प्रक्रिया सही से काम न करने से हमे बार बार खट्टी डकार आती रहती है और जब ये ज्यादा बढ़ जाए तो उलटी भी हो सकती है. इसलिए जल्दी ही बदहजमी का उपचार करना जरुरी है और इसकी लिए डॉक्टर के पास जाए बिना भी हम कुछ नेचुरल तरीको से ये कर सकते है. आज इस पोस्ट में हम बताएँगे बदहजमी का इलाज और खट्टी डकार के घरेलू उपाय घर पर कैसे किया जा सकते है.

Badhazmi aur khatti dakar ka ilaj ke Gharelu Upay

बदहजमी के कारण: Indigestion Causes in Hindi

  • जरुरत से ज्यादा खाना
  • पेट में इन्फेक्शन होना
  • समय पर खाना ना खाना
  • वसायुक्त और मसालेदार खाने का अधिक सेवन करना
  • ज्यादा टेंशन में रहना

 

बदहजमी होने के लक्षण : Badhazmi ke lakshan

  • बार बार खट्टी डकार आना
  • पेट में दर्द होना
  • पेट में गैस बनना और पेट से आवाज़े आना
  • जी मिचलाना
  • उल्टिया आना
  • सीने में जलन होना

जाने: पेट के कीड़े का घरेलू उपचार और लक्षण

 

बदहज़मी का इलाज और खट्टी डकार के घरेलू उपाय

khatti dakar aur Badhazmi ka ilaj in Hindi

1. बदहजमी का इलाज के लिए जो सबसे आसान घरेलू नुस्खा है वो है जब भी किसी को बदहजमी की शिकायत हो उसे जखूब पानी पीना चाहिए. इससे पेट में ph का स्तर बढ़ कर हाजमा ठीक होता है

2. एक गिलास पानी में एक चमच्च जीरा पाउडर अच्छे से मिलकर पीने पिए. ये एक अपच का इलाज का प्रभावी घरेलू नुस्खा है

3. बार बार खट्टी डकार का इलाज के लिए अदरक एक असरदार उपाय है.  ज्यादा खा लेने के वजह से हुए बदहजमी के लिए  एक गिलास पानी में 2 चमच्च अदरक का रस, एक चमच्च निम्बू रस और थोडा नमक डालकर अच्छे से मिलाकर पिए.

4. हाजमा ठीक न रहने के वजह से पेट में जलन बन जाती है. उसके लिए आधा चमच्च बेकिंग सोडा एक गिलास पानी में मिलकर पिए. इससे जलन कम हो जायगी.

5. दालचीनी को बदहजमी की दवा के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है. एक कप पानी को उबाले और उबलते पानी में 1/2 चमच्च दालचीनी डालकर उसके चाय बनाकर पी ले. कुछ ही मिनटों में पेट के सूजन और दर्द कम हो जायगा.

6. पाचन शक्ति बढाने के लिए हर्बल चाय काफी फायदेमंद है. एक कप गर्म पानी में हर्बल चाय बैग डुबो कर 5 मिनट के लिए ढक कर रख दे. इस चाय को गर्म ही पिए.

7. अगर आप बदहज़मी की वजह से पेट दर्द से पीडित है तो लहसुन का पेस्ट और सोया तेल को बराबर मात्रा में मिलाये और इस मिश्रण से हलके  हाथो पेट की मसाज़ करे. इस घरेलू तरीके से जल्द ही आपको दर्द से राहत मिलेगी.

8. सेब के सिरके को पानी में मिलकर पीने से बदहजमी का उपचार किया जा सकता है. इसमें आप थोडा शहद मिलकर भी पिए तो और बेहतर परिणाम मिलेंगे. दिन में 3 बार ये घरेलु नुस्खे करे. सेब का सिरका में एंटीबायोटिक गुण होता है जिससे इससे पेट का इन्फेक्शन खत्म होने में भी मदद मिलती है.

9. पुदीने के रस की कुछ बूंदे एक गिलास पानी में मिलाकर पीना अपच का एक रामबाण उपाय है.

10. जिन लोगो को लम्बे समय से बदहजमी है वो खाने के बाद एक गिलास अनानास का जूस पिए. इससे हाजमा ठीक होता है और ये उपाय इस समस्या से आपको बचाकर रखेगा.

 

बदहजमी से बचने के उपाय: Badhazmi (Indigestion) se bachne ke Tips

  • खाना चबा चबा कर और धीरे खाए
  • एक साथ ज्यादा खाना न खाए, छोटे समय अंतराल में थोडा थोडा खाए.
  • रोजाना व्यायाम और बाबा रामदेव योगा करे.
  • तले हुए मसालेदार खाने से परहेज़ करे.
  • अगर बदहजमी और गैस की दवा लेनी है तो पतंजलि की आयुर्वेदिक दवा ही ले.
  • धुम्रपान और शराब का सेवन बंद कर दे.
  • भोजन करने ही एकदम से ना लेटे.

देखे: बार बार पेशाब आने का इलाज और कारण

 

हमें उम्मीद है इस पोस्ट में बताये गए बदहजमी का इलाज और बार बार खट्टी डकार रोकने के उपाय आपके लिए कारगर होंगे. अगर आपका कोई सुझाव या सवाल है हाजमे को लेकर तो निचे कमेंट्स में जरुर लिखे.

loading...

Leave a Reply

error: Content is protected !!