अस्थमा (दमा) के लक्षण और घरेलू इलाज के 10 नुस्खे और योग

अस्थमा क्या है – अस्थमा जिसे आम भाषा में दमा भी कहा जाता है दमा (asthma) बहुत ही कष्ट देने वाली बीमारी है। यह बीमारी किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकती है। अस्थमा मे साँस लेने व निकालने मे परेशानी होती है। खांसी के कारण साँस की नली मे बलगम जमा हो जाता है जिससे और भी ज्यादा तकलीफ हो जाती है। दमा का अटैक पड़ने पर रोगी बहुत बुरी तरह से हाफ्ने लगता है। अस्थमा के रोगी को विपरीत माहौल में बेहद संभल कर रहना चाहिए।

अस्थमा रोग से ग्रसित बच्चों में अस्‍थमा के नुकसान को रोकने के लिए उनके खान-पान का ध्यान रखना चाहिए। इससे बच्चे में दमा के अटैक और दमा की और अधिक समस्याओं को रोकने में मदद मिलती हैं। इस बात का जानना अपके लिये बहुत ही जरुरी है कि दमा को पूरी तरह से तो खत्म नही किया जा सकता, लेकिन अस्थमा (दमा) के घरेलू उपचार नुस्खे व योग द्वारा किया जा सकता है।

अस्थमा (दमा) के घरेलु उपचार, योग, लक्षण - Asthma ka ilaj

दमा (अस्थमा) होने के कारण । Asthma ke karan

  • शराब, सिगरेट या दूसरी तरह का नशा करना इस बीमारी को जन्म देने का कारण बनता है।
  • सर्दी, जुखाम या खांसी लम्बे समय तक बने रहना।
  • तला हुआ मसालेदार जायदा मिर्च वाला खाना लम्बे समय तक खाना।
  • पेशाब की दाब लगने पर भी पेशाब ना करना, लम्बे समय तक रोके रहने से भी ये रोग बन सकता है।
  • ज्यादा धुल मिटटी वाली जगह में रहने से भी दमा हो सकता है।
  • गुर्दे या फेफेड़े का कमज़ोर होने से भी संभावना बढ़ जाती है।

 

अस्थमा के लक्षण ।  Asthma (Dama) ke lakshan

जब दमा बहुत ही अधिक बढ़ जाता है, तो दौरा आने का खतरा पैदा हो जाता  है जिससे रोगी व्यक्ति को सांस लेने में बहुत  दिक्कत आती है तथा व्यक्ति छटपटाने लग जाता है इसके बहुत से लक्षण देखे जा सकते है। जेसे:-

  1. सांस लेने में तकलीफ होना
  2. सीने में भारीपन होना
  3. घरघराहट होना
  4. अत्यधिक खाँसी
  5. सांस लेते समय हल्की-हल्की सीटी बजना

 

अस्थमा (दमा) के घरेलू उपचार के नुस्खे

Asthma ka ilaj in Hindi

दमा के इलाज  के लिए कुछ घरेलू उपचार हैं जिनसे अस्थमा के लक्षणों को आसानी से कम किया जा सकता है।

  1. दमा रोगी पानी में अजवाइन मिलाये फिर उसे उबालें और पानी से निकलती हुई भाप लें, यह घरेलू उपाय बहुत ही फायदेमंद होता है।
  2. मैथी का काढ़ा तैयार करने के लिए एक चम्मच मे मैथीदाना और एक कप मे पानी उबालें। हर रोज सुबह-शाम इस मिश्रण का सेवन करने से अस्थमा (दमा) का इलाज उपचार में जरुर लाभ मिलता है।
  3. सरसों के तेल में नमक डालकर दमा के रोगी के सीने की मालिश करनी चाहिए। रोगी को खुली हवा से बचाव करना चाहिए। प्रतिदिन काली मिर्च और  हल्दी में उड़द के पाउडर को नाक से सूंघे तथा प्राणायाम करे इससे दमे में आराम होता है।
  4. एक चुटकी काली मिर्च का चूर्ण, 4 बूँद शहद एवं थोड़ा सा घी मिलाकर लेने से श्वास रोग में लाभ होता है।
  5. सबसे पहले 4 से 5 लौंग लें और थोड़े से पानी में 5 मिनट तक उबालें। इस मिश्रण को छानकर इसमें एक चम्मच शुद्ध शहद को मिलाकर और गरम-गरम पी लें। हर रोज दो से तीन बार यह काढ़ा बनाकर पिए. ये एक अच्छा काम करने वाला अस्थमा का आयुर्वेदिक इलाज है।
  6. अदरक का एक चम्मच रस, एक कप मैथी के काढ़े और कुछ मात्रा शहद की  इस मिश्रण में मिलाएं। दमे के मरीजों के लिए यह मिश्रण लाभकारी साबित होता है।
  7. लहसुन दमा के उपचार  में काफी फायदेमंद साबित होता है। 30 मिली दूध में लहसुन के 5 टुकड़े उबालें और इस मिश्रण का प्रतिदिन लेने से रोगी को  शुरूआती दमे से छुटकारा मिल जाता है।
  8. अधिक से अधिक टमाटर, गाजर और पत्तेदार सब्जियां खाने से अस्थमा अटैक को कम किया जा सकता है। दमा (asthma) के मरीजों को रोजाना कम से कम एक सेब खाना चाहिए।
  9. एक चम्मच हल्दी को दो चम्मच शहद के साथ मिलाकर चाट ले दमा का दौरा तुरंत ठीक हो जाएगा।
  10. तुलसी के पत्तो को पानी मई पीसकर इसमें दो चम्मच शहद मिलाकर सेवन करने से जल्द ही फायदा मिलता है

 

अस्थमा का इलाज बाबा रामदेव (Baba Ramdev) योग से 

प्राणायम योग : प्राणायम में शुरुआत में अनुलोम-विलोम  करें और फिर इसके बाद किसी योगी व्यक्ति से पूछकर कपालभाती और भस्त्रिका प्राणायम का अभ्यास कर सकते हैं। अस्थमा के लिए योग में मुद्रा योग भी में काफी फायदा पहुचता है. योग मुद्राओं में तड़ागी, अग्नि, गोरक्ष मन, प्रणाम, हस्तपात और महामुद्रा करना चाहिए।

One Response

  1. Shivaji Lad

Leave a Reply

error: Content is protected !!